Unique wedding: Mother-in-law gave the bride a resolution to lockdown and social distancing.

अनोखी शादी: सास ने दुल्हन को लॉकडाउन व सोशल डिस्टेंसिंग का संकल्प दिलाया |

Last Updated on May 3, 2020 by Shiv Nath Hari

  • बिटिया हम मजबूर,दूरी बनाए रखना,कोरोना का प्रकोप है,कोरोना हराना है
  • दुल्हन ने सोशल डिस्टेंस की पालना कर छुए चरण
  • शादी में 5786 रू का खर्चा
Unique wedding: Mother-in-law gave the bride a resolution to lockdown and social distancing.
दुल्हन ने सोशल डिस्टेंस की पालना कर छुए चरण

हलैना-(भरतपुर) गांव सरसैना में शादी के बाद आई दुल्हन तथा उसके ससुराल पक्ष की महिलाओं ने कोविड-19 महामारी एवं लाॅकडाउन की पालना करते हुए चरण स्पर्श तथा सेढ माता पूजन की रस्म अदा की और सास व चचिया सास ने करीब सवा मीटर दूरी कायम रख दुल्हन से चरण स्पर्श कराए और दुल्हन को आर्शीवाद देकर लाॅकडाउन की पालना एवं मास्क का उपयोग करने का संकल्प दिलाया।

दुल्हन अनुसुईयां की सास सौमौतीदेवी ने बताया कि 2 मई को पुत्र हरवीरसिंह की शादि नगला धरसौली-अजीतनगर निवासी अनुसुईयां पुत्री स्व.भगवानसिंह से साथ हुई,शादि में लाॅकडाउन की पालना करते हुए वैर उपखण्ड अधिकारी अमित कुमार वर्मा से शादि की स्वीकृति ली,बरात में दुल्हा हरवीरसिंह,विचैलियां दलवीरसिंह एवं पण्डित अशोक कुमार बरात में गए,जहां दुल्हन अनुसुईयां की शादि की रस्म उसके भाई सत्यभानसिंह ने अदा की। दुल्हन पक्ष से केवल दुल्हन व उसका भाई सत्यभानसिंह ही शामिल हुए,शादि में दोनो पक्ष से दुल्हा-दुल्हन सहित पाचं लोग ही शामिल थे।

शादी के बाद दुल्हन अनुसुईयां गांव सरसैना आई,जहां घर की धेरी पूजन एवं चरण स्पर्श की रस्म पर भी सोशल डिस्टेंस व लाॅकडाउन की पालना की,दुल्हा-दुल्हन सहित परिवार की अन्य महिलाओ ने मुख पर मास्क लगाए और सोशल डिस्टेंस बनाए रखा। उन्होने बताया कि दुल्हन अनुसुईयां ने सवा मीटर दूरी कायम रख सोशल डिस्टेंस बना कर चरण छुए और सभी से आर्शीवाद प्राप्त किए।

दुल्हन अनुसुईयां ने बताया कि ससुराल पहुचें ही नया परिवार मिला,जहां परिवार के सभी सदस्य लाॅकडाउन व सोशल डिस्टेंस की पालना करते मिले,जिसको देख खुशी हुई। सोशल डिस्टेंस कायम रख सास सौमोतीदेवी,चचियां सास सावित्रीदेवी,जेठानी ऊषादेवी व ननन्द राजवती के सवा मीटर दूरी से चरण स्पर्श किए,सभी ने मुख पर मास्क व रूमाल का उपयोग किए हुए था।

सास सौमौती व चचिया सास सावित्री ने 14 दिवस को घर के एक कमरा में ठहराव करने को पाबन्द किया है और ससुर देवकीनन्दन एवं चचियां ससुर सुरेशसिंह फौजदार ने करीब पाचं मीटर दूरी से आर्शीवाद देकर चरण स्पर्श कराए।

गांव नगला धरसौनी-अजीतनगर निवासी अनुसुईयां एवं गांव सरसैना निवासी हरवीरसिंह की शादि में दोनो पक्ष का कुल 5786 रूपए का खर्चा हुआ,दुल्हा के चाचा सुरेशसिंह फौजदार ने बताया कि दुल्हा पक्ष का कुल 2786 का खर्चा हुआ,जिस में 1100 रू का दुल्हा के कपडा,300 रू का कार का डीजल,786 रू के श्रृंगार व अन्य समान,200 रू का बूरा,100 रू के मसाला,1000 रू अन्य सामान का खर्चा आया,घी घर ही था,परिवार के लोगों को आलू की सब्जी,घी-बूरा एवं दही-बूरा और देशी घी की पूडिया खिलाई गई।

दुल्हन के भाई सत्यभानसिंह ने बताया कि बहिन अनुसुईयां की शादि में कुल खर्चा 3 हजार रू का हुआ,जिसमें 2 हजार के दुल्हन के कपडा व श्रृंगार का सामान,शादि में शामिल हुए दुल्हा-दुल्हन सहित पाचं लोगो की दाल,बाटी-चूरमा की दावत पर 400 रू तथा 600 रू चांदी के सिक्का पर खर्च हुए,दुल्हा ने चांदी का सिक्का लेकर वापिस कर दिया।

दुल्हा हरवीरसिंह ने बताया कि धार्मिक स्थल के पट बन्द होने के कारण दुल्हा-दुल्हन ने सेढ माता पूजन की रस्म अदा की,जो घर से निकल कर गांव की सेढ माता पूजन करने पहुंचे,परिवार के सदस्य एवं गांव की महिलाए घर के दरवाजा से दुल्हा-दुल्हन को आता-जाता देखते रहे,परिवार की महिलाओं सहित गांव की ेकुछ महिलाओं ने दुल्हा-दुल्हन पर पुष्प वर्षा कर स्वागत किया।
— हलेना से विष्णु मित्तल