खरीफ की फसल की बुवाई में जुटे के किसान बाजरे के महंगे बीज ने बढ़ाई किसानों की मुश्किलें

Advertisement

Last Updated on June 6, 2020 by Shiv Nath Hari

Advertisement
Advertisement

Farmers engaged in sowing of kharif crop
The expensive millet seeds increased farmers’ problems

डीग – 6 जून :- डीग उपखंड क्षेत्र में विगत दिनों से पश्चमी विक्षोभ से हो रही मानसून पूर्व की बारिश के चलते किसान खरीफ़ की फसल की बुआई में जुट गए हैं जिससे खाद बीज की दुकानों पर बीज लेने के लिए किसानों की भारी भीड़ लगी देखी जा रही हैं । वहीं कृषि विशेषज्ञों की मानें तो यह चक्रवात के साथ मानसून से पूर्व की वर्षा है जो खरीफ की फ़सलों के लिए अच्छी साबित हो सकती है ।

पूर्व सहायक कृषि अधिकारी उमेश पाराशर ने बताया कि मानसून आने से पूर्व एक बार फिर चक्रवाती वर्षा का तंत्र बन सकता है इसलिए खरी फ की फसल के लिए यह अनुकूल समय है । वहीं उन्होंने बताया कि अगर बारिश नहीं हुई तो फसल को नुकसान की आशंका है इसी हालत में सिंचाई संपन्न किसान ही अपनी फसल सूखे से बचा सकते हैं । इधर बाजार में बाजरे का बीज 500 रुपये किलो 900 रूपए प्रति किलो मिलने से किसानों की मुश्किलें बढ़ीं हैं । किसानों का कहना है कि लॉक डाउन के चलते आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण किसानों को बीज खरीदने में काफी दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है ।

Advertisement
Advertisement