मास्क के उपयोग, स्वच्छता और सोशल डिस्टेंसिंग पर निरंतर ध्यान देकर वायरस को परास्त करेंगे

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Last Updated on May 18, 2020 by Shiv Nath Hari

[ad_1]


मास्क के उपयोग, स्वच्छता और सोशल डिस्टेंसिंग पर निरंतर ध्यान देकर वायरस को परास्त करेंगे


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की अधिकारियों से चर्चा
 


भोपाल : सोमवार, मई 18, 2020, 14:52 IST

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के नियंत्रण के प्रयासों में सफलता मिल रही है। प्रदेश में आमजन को शिक्षित करने का कार्य निरंतर चलेगा। मास्क के उपयोग, सोशल डिस्टेंसिंग और स्वच्छता के पालन के प्रति जन जागरूकता बढ़ाने का कार्य निरंतर चलेगा। इससे राज्य में इस वायरस पर शत-प्रतिशत नियंत्रण प्राप्त कर उसे परास्त किया जा सकेगा।कुछ समय इसी स्थितियों में जीना है। प्रत्येक व्यक्ति को अपने और सभी लोगों के बचाव के प्रति सतर्क रहना है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में कोरोना वायरस की स्थिति, राज्य में किए गए प्रयासों और आगामी पखवाड़े में लॉकडाउन-4 में क्षेत्रवार गतिविधियों के संचालन के संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा कर रहे थे।

म.प्र. में श्रमिकों को मिली सुविधाएं

बैठक में अपर मुख्य सचिव एवं राज्य नियंत्रण कक्ष प्रभारी श्री आई. सी. पी. केशरी ने बताया कि 88 ट्रेन श्रमिकों को लेकर आ चुकी हैं। अन्य 22 ट्रेन आएंगी। इस तरह 110 ट्रेन की व्यवस्था से बड़े पैमाने पर श्रमिकों को घर पहुंचने का कार्य संपन्न हो रहा है। अन्य राज्यों के प्रवासी श्रमिकों को राज्य में भोजन और आगे की सड़क मार्ग से यात्रा के लिए परिवहन की सुविधा देने का कार्य बहुत मुस्तैदी से किया गया है। प्रत्येक जिले में श्रमिकों को उनकी आवश्यकता के अनुरूप सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई। अनेक श्रमिकों ने मध्यप्रदेश में मिली सुविधाओं को अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर बताया है।

बैठक में बताया कि प्रदेश में लॉकडाउन-4 के संबंध में विधिवत आदेश जारी कर क्षेत्रवार गतिविधियों के संचालन के संबंध में शीघ्र ही जानकारी दी जाएगी।

भोपाल मॉडल की चर्चा

मुख्यमंत्री श्री चौहान को जानकारी दी गई कि भोपाल में इस माह किए गए विशेष प्रयासों से कोरोना वायरस के नियंत्रण में काफी सफलता प्राप्त हुई है। आईजी श्री उपेंद्र जैन ने बताया कि प्रत्येक थाना क्षेत्र में 10 कोरोना मित्र बनाकर कम्युनिटी को शामिल करने का कार्य किया गया। सभी समुदायों को जागरूकता प्रयासों से जोड़ा गया। सेंपलिंग और सर्विलेंस की व्यवस्थाओं से भोपाल रोग नियंत्रण में एक मॉडल के रूप में सामने आ रहा है। होम क्वॉरेंटाइन के प्रति लोग सहयोग प्रदान कर रहे हैं। जिन परिवारों में कोई सदस्य अन्य स्थान से आए हैं वह परिवार के सदस्य को जागरूक बनाते हुए क्वॉरेंटाइन व्यवस्था में सहयोग दे रहे हैं। कमिश्नर भोपाल श्री कविंद्र कियावत और कलेक्टर श्री तरुण पिथोड़े ने भी भोपाल में क्षेत्रवार रोग नियंत्रण की स्थिति की जानकारी दी।

बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


अशोक मनवानी

[ad_2]

Advertisement
Advertisement