गिर्राज जी के परिक्रमा मार्ग पुछरी में भूखे बंदरों का पेट भरने के लिऐ बाटे पूड़ी,केले ओर ब्रेड

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Last Updated on April 3, 2020 by Shiv Nath Hari

गिर्राज जी के परिक्रमा मार्ग पुछरी में भूखे बंदरों का पेट भरने
के लिऐ बाटे पूड़ी,केले ओर ब्रेड
गिर्राज जी के परिक्रमा मार्ग पुछरी में भूखे बंदरों का पेट भरने
के लिऐ बाटे पूड़ी,केले ओर ब्रेड

डीग- {3 अप्रैल} विश्व व्यापी कोरोना माहमारी के संक्रमण के कारण देश में 21 दिन के लाक डाउन के चलते गरीब ओर दिहाड़ी मजदूरों के परिवारों के साथ – साथ हिन्दुओं के विश्व प्रसिद्ध तीर्थ स्थल गोवर्धन स्थित गिर्राज जी सप्त कोसीय परिक्रमा मार्ग ओर गिरिराज पर्वत की तलहटी में विचरण करने वाले 5 हजार से अधिक बंदरों के समक्ष पेट भरने का संकट खड़ा हो गया है।

लाक डाउन से पहले गिर्राज जी परिक्रमा देने के लिए प्रतिदिन देश के कोने कोने से हजारों लोग गोवर्धन ओर पु्छरी आते थे जो बड़े चाव ओर श्रद्धा से परिक्रमा करने के दौरान इन बंदरों को चने ओर केले खिलाते थे लेकिन पिछले 9 दिन से देश व्यापी लाक डाउन के चलते परिक्रमा मार्ग में सन्नाटा पसरा हुआ है जिससे परिक्रमा मार्ग में विचरण करने वाले इन हजारों बंदरों का भूख से बुरा हाल हो रहा है

बंदरों की इस दयनीय हालत को देख कर शुक्रवार को मित्र मंडली युवा मंडल के कार्यकरता डा रविंद्र सिंह,अनूप जैन, केदार साहू, कोशलेंद्र इंदौलिया, भूदेव पाराशर ने प गिर्राज जी के परिक्रमा मार्ग में पूछ री जाकर भूखे बंदरों को 100 किलो केला व 1000 पुड़िया वितरित की ।इन कार्यकर्ताओं ने गुरुवार को भी ब्रेड के 80 पैकेट इन बंदरों को बांटे थे।

डीग से पदम जैन की रिपोर्ट

Advertisement
Advertisement