बंगाली साधुओं की यात्रा ने डीग में किया प्रवेश, श्रद्धालुओं ने पुष्प वर्षा व माल्यार्पण कर साधुओं का किया स्वागत

Last Updated on August 19, 2020 by Shiv Nath Hari

बंगाली साधुओं की यात्रा ने डीग में किया प्रवेश, श्रद्धालुओं ने पुष्प वर्षा व माल्यार्पण कर साधुओं का किया स्वागत

The visit of the Bengali Sadhus entered the Deeg, the devotees welcomed the Sadhus by showering flowers and garlanding them.
बंगाली साधुओं की यात्रा ने डीग में किया प्रवेश, श्रद्धालुओं ने पुष्प वर्षा व माल्यार्पण कर साधुओं का किया स्वागत

डीग- 19 अगस्त बंगाली साधुओं की यात्रा ने संकीर्तन करते हुए वुधवार को जल महलो की नगरी डीग में में प्रवेश किया जहां कस्बे के पांडे मोहल्ला में श्रद्धालुओं ने साधुओं का पुष्प वर्षा कर और माल्यार्पण कर स्वागत किया और साधुओं को प्रसादी ग्रहण कराई।

यात्रा के प्रभारी व वृंदावन के प्राचीन मदन मोहन मंदिर के महंत बाबा दीनबंधु दास ने बताया कि यह ब्रज चौरासी कोस की यात्रा 16 अगस्त को वृंदावन से चलकर बुधवार 19 अगस्त को डीग पहुंची है जो गुरुवार की सुबह डीग से चलकर आदि बद्री धाम पहुंचेगी। यात्रा लगभग एक माह में वृंदावन में जाकर संपन्न होगी। महंत बाबा के अनुसार यात्रा 518 वर्ष पूर्व श्री माधव गोणेश्वर संप्रदाय के सनातन गोस्वामी ने शुरू की थी जो आज भी जारी है। अभी तक हर वर्ष इस यात्रा में लगभग 1500 साधु यात्रा करते थे परंतु कोरोना महामारी के चलते इस बार परंपरा का निर्वहन करते हुए कुल 6 साधु चौरासी कोस की पैदल यात्रा कर रहे है साथ ही यात्रा में सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन जिसमें मास्क लगाना सैनिटाइज करने के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन किया जा रहा है।

आपको बता दें साधुओं की यात्रा के सम्मान में रियासत काल से डीग में प्रतिवर्ष जवाहर प्रदर्शनी एवं ब्रज यात्रा के नाम से मेला लगता चला आ रहा है लेकिन इस वर्ष कोविड-19 के संक्रमण के चलते प्रशासन ने मेले को रद्द कर दिया है।