Rajasthan: चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने भरतपुर में कोविड-19 टेस्टिंग शीघ्र शुरू करवाने का आग्रह किया

Last Updated on April 17, 2020 by Shiv Nath Hari

Rajasthan: चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने भरतपुर में कोविड-19 टेस्टिंग शीघ्र शुरू करवाने का आग्रह किया

Rajasthan: Minister of State for Medical and Health urged to start Kovid-19 testing in Bharatpur soon.
Rajasthan: चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने भरतपुर में कोविड-19 टेस्टिंग शीघ्र शुरू करवाने का आग्रह किया

भरतपुर, 17 अपे्रल। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री डाॅ. सुभाष गर्ग ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट के भारत निर्माण राजीव गाॅधी सेवा केन्द्र से वीडियो काॅफे्रंसिग के माध्यम से कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के सम्बंध में आयोजित राज्य स्तरीय समीक्षा बैठक में हिस्सा लिया।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने बताया कि उन्होंने मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत से आग्रह किया है कि भरतपुर में कोविड-19 की टेस्टिंग सुविधा जल्द से जल्द शुरू की जाये ताकि यहां क्वारेंटाईन में रखे गये संदिग्धों की समय से जांच हो सके। उन्होंने भरतपुर मेडिकल काॅलेज को और अधिक उन्नत बनाने के लिए चिकित्सकीय उपकरण एवं अन्य जरूरी संसाधन मुहैया कराने का आग्रह भी किया।

उन्होंने कहा कि ओलावृष्टि एवं अतिवृष्टि से प्रभावित किसानों को आपदा प्रबंधन नियमों के तहत जिले में 108 करोड़ रूपये के मुआवजे के प्रस्ताव भिजवाये गये थे, किसानों को मुआवजा राशि का भुगतान शीघ्र शुरू कर राहत प्रदान की जाये। उन्होंने बताया कि भरतपुर जिले में समर्थन मूल्य पर 1 मई से शुरू हो रही खरीद को भी शीघ्र शुरू करवाने का आग्रह भी किया है ताकि किसानों को उनकी फसल का उचित एवं सही दाम मिल सके।

राज्य मंत्री डाॅ. गर्ग ने कहा कि पीएम केयर फंड की तर्ज पर सीएम रिलीफ फंड में जमा की गयी राशि को भी सीएसआर गतिविधि में शामिल करवाने के लिए मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत से प्रधानमंत्री से मांग करने का आग्रह किया ताकि राज्यों को भी पर्याप्त आर्थिक सहयोग मिल सके।

उन्होंने बताया कि वीडियो काॅफें्रसिंग के दौरान भरतपुर जिले में कोरोना संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम के लिए की जा रही स्क्रीनिंग, संस्थानिक एवं होम क्वारेंटाईन की स्थिति, संक्रमण वाले क्षेत्रों में कफ्र्यू के हालात एवं राहत उपायों के बारे में चर्चा की गयी। उन्होंने कहा कि अभी भी बहुत बड़ी संख्या में प्रवासी कामगार एवं श्रमिक अन्य जिलों एवं राज्यों में फंसे हुए हैं जो अपने घर पहुंचना चाहते हैं, उनके लिए उचित व्यवस्था करने का आग्रह भी मुख्यमंत्री से किया।

उन्होंने बताया कि वीडियो काॅफें्रसिंग में मंत्री परिषद के सदस्यों ने कोरोना संक्रमण नियंत्रण के लिए मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में प्रदेश में अपनायेे गये माॅडल और बेहतर प्रबंधन की सराहना की।

लाॅकडाउन को स्वघोषित कफ्र्यू मानकर करें पालना

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने जिलेवासियों का आहृवान किया है कि वे लाॅकडाउन को स्वघोषित कफ्र्यू मानकर इसकी कठोरता से पालना करें और अपने घरों से बाहर नहीं निकलें, चिकित्साकर्मी, पुलिस एवं प्रशासन पूरी क्षमता से कोरोना महामारी की रोकथाम में लगे हैं, उनका मनोबल बनाये रखें एवं साथ मिलकर कोरोना के खिलाफ इस जंग को कामयाब बनायें।

जिला स्तरीय अधिकारियों की ली बैठक, दिये आवश्यक दिशा-निर्देश

वीडियो काॅफें्रसिंग के बाद चिकित्सा राज्य मंत्री ने जिला प्रशासन एवं पुलिस अधिकारियों की बैठक लेकर निर्देश दिये कि लाॅकडाउन एवं कफ्र्यू के दौरान खाद्य सामग्री, दूध एवं अन्य आवश्यक वस्तुओं की कोई कमी नहीं होने दी जाये। उन्होंने कहा कि क्रोनिक डिजीज के रोगियों को फरवरी माह के परामर्श पर्ची के आधार पर राज्य सरकार की मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना से दवाईयां उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये हैं, यह सुनिश्चित किया जाये कि ऐसे रोगियों को दवाईयों के लिए भटकना न पडे। उन्होंने कहा कि कफ्र्यू वाले क्षेत्र में बिजली एवं पानी सहित किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं आने दी जाये। उन्होंने निर्देश दिये हैं कि जिले में बाहर से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को क्वारेंटाईन किया जाये।

वीडियो काॅफें्रसिंग के दौरान सम्भागीय आयुक्त चन्द्रशेखर मूथा, उपमहानिरीक्षक पुलिस लक्ष्मण गौड़, जिला कलक्टर नथमल डिडेल सहित प्रशासनिक एंव जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।