आवश्यकतानुसार रिफाइनरी से संबंधित नए कोर्स आईटीआई में जोड़े जाएंगे – अशोक चांदना

Last Updated on March 13, 2020 by Shiv Nath Hari

जयपुर, 13 मार्च। कौशल, नियोजन एवं उद्यमिता राज्य मंत्री श्री अशोक चांदना ने शुक्रवार को विधानसभा में बताया कि आवश्यकता के अनुसार बाड़मेर में रिफाइनरी से संबंधित नए कोर्स आईटीआई में जोड़े जाएंगे।


श्री चांदना ने प्रश्नकाल में विधायकों द्वारा इस संबंध में पूछे गये पूरक प्रश्नों का जवाब देते हुए कहा कि रिफाइनरी के लिए दो तरह के कौशल की आवश्यकता रहती है पहला कौशल जो रिफाइनरी लगने के दौरान जरूरी होता है दूसरा कौशल जो रिफाइनरी लगने के बाद उसके संचालन के लिए जरूरी होता है। उन्होंने कहा कि इन दोनों क्षेत्रों में रोजगार के अवसरों के लिए विभाग द्वारा एचपीसीएल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी तथा मुख्य महा निदेशक को पत्र लिखे गये है जिससे वे संबंधित कौशल की जानकारी विभाग को दे सकें। उन्होंने कहा कि इसके बाद आवश्यकतानुसार बाड़मेर के आईटीआई में नए ट्रेड जोड़े जाएंगे, साथ ही जरुरत होने पर वहां कौशल विकास केन्द्र भी बनाएं जाएंगे।


इससे पहले श्री चांदना ने विधायक श्री हमीर सिंह के मूल प्रश्न के लिखित जवाब में कहा कि बाड़मेर जिले में वर्तमान में 10 सरकारी व 23 निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान संचालित किये जा रहे है। उन्होंने इसका ट्रेड सहित विवरण सदन के पटल पर रखा। उन्होंने कहा कि बाड़मेर जिले में रिफाइनरी लगने के कारण आईटीआई प्रशिक्षण प्राप्त बेरोजगार युवाओं को रोजगार दिये जाने के अवसर में बढ़ोतरी होगी। उन्होंने कहा कि रिफाइनरी से संबंधित अधिकांश ट्रेड वो ही होते है जो कि बाडमेर जिले की विभिन्न आईटीआई में स्वीकृत है। उन्होंने इसका विवरण सदन के पटल पर रखा।


उन्होंने रिफाइनरी से संबंधित विशिष्ट ट्रेड खोलने हेतु रिफाइनरी प्रबन्धन को दिनांक 30 जनवरी 2020 व 14 फरवरी 2020 को लिखे गये पत्र की प्रति सदन के पटल पर रखी। उन्होंने कहा कि प्रबन्धन रिफाईनरी से प्रतिउत्तर आना शेष है। यदि रिफाइनरी प्रबन्धन मांग से अवगत करवाता है तो इस पर विचार किया जायेगा।