Hindi News Rajasthan: तकनीकी कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए सिस्टम को चाक-चौबंद बनाए-ऊर्जा मंत्री

Last Updated on March 5, 2020 by Shiv Nath Hari

Hindi News Rajasthan: तकनीकी कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए सिस्टम को चाक-चौबंद बनाए-ऊर्जा मंत्री

Hindi News Rajasthan: तकनीकी कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए सिस्टम को चाक-चौबंद बनाए-ऊर्जा मंत्री
Hindi News Rajasthan: तकनीकी कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए सिस्टम को चाक-चौबंद बनाए-ऊर्जा मंत्री


जयपुर, 05 मार्च। ऊर्जा मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला ने कहा है कि विभाग की विभिन्न कम्पनियों में कार्यरत सभी तकनीकी कर्मचारी एवं हैल्पर्स की सुरक्षा राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। ऎसे सभी कार्मिक विभाग का अभिन्न अंग हैं, उनकी सुरक्षा के लिए सिस्टम को चाक-चौबंद बनाए। मरम्मत एवं रखरखाव सम्बंधी कायोर्ं में होने वाली दुर्घटनाओं को रोका जाए और कार्मिकों की जान को हर हालत में बचाया जाए। अधिकारी इसके लिए लेटेस्ट सुरक्षा उपकरण की खरीद करे, समय-समय पर तकनीकी कार्मिकों के रिफरेशर कोर्स कराए तथा जिम्मेदार अधिकारियों के पर्यवेक्षण में सभी रिपेयर वर्क्स कराए जाने की व्यवस्था भी सुनिश्चित करें।


डॉ. कल्ला गुरूवार को जयपुर में विद्युत भवन में विद्युत विभाग की विभिन्न कम्पनियों में कार्यरत तकनीकी कर्मचारियों तथा अन्य अनुबंधित कार्मिकों के लिए अपनाए जा रहे सुरक्षा मापदण्डों की समीक्षा के लिए बुलाई गई बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अधिकारी इसके लिए रिसर्च करे, जहां-जहां भी बेस्ट प्रेक्टिसेज अपनाई जा रही है, उनका अध्ययन करे और तकनीकी कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए सर्वश्रेष्ठ सुरक्षा उपकरणों को प्रयुक्त करें।


ऊर्जा मंत्री ने कहा कि जब भी तकनीकी कर्मचारी मरम्मत कायोर्ं के लिए फील्ड में जाए तो कम से कम कनिष्ठ अभियंता स्तर के अधिकारी की देखरेख में ही कार्य हो। मरम्मत और रखरखाव कायोर्ं के लिए शटडाउन जेईन स्तर के अधिकारी की मॉनिटरिंग में लिया जाए। सभी कनिष्ठ अभियंता मरम्मत सम्बंधी कायोर्ं के लिए एक चौक लिस्ट बनाए और उसके अनुसार निर्धारित सुरक्षा मापदण्ड पूरे होने पर ही सही तरीके से शटडाउन लेकर रिपेयर वर्क्स को अंजाम दे। इसके लिए तीनों डिस्कॉम्स, विद्युत प्रसारण और उत्पादन कम्पनियों में अभियंताओं को पाबंद किया जाए, जो अभियंता निर्देशों की अवहेलना करे उनके खिलाफ सख्त अनुशासनात्मक कार्यवाही हो। उन्होंने आवश्यकता के अनुरूप फीडर इंचार्ज अन्य कार्मिकों की भी ट्रेनिंग कराने को कहा।


डॉ. कल्ला ने बैठक में बजट 2019-20 के विभागीय लक्ष्यों की समीक्षा की और आगामी 31 मार्च तक वांछित लक्ष्य प्राप्त करने के निर्देश दिए। साथ ही शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में खुले पड़े बॉक्स, बोर्ड्स एवं ढीले तारों को दुरूस्त करने के लिए भी विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिए।


ऊर्जा विभाग के प्रमुख शासन सचिव एवं डिस्कॉम्स के अध्यक्ष श्री अजिताभ शर्मा ने बैठक में कहा कि अधिकारी सभी स्तरों पर तमाम प्रोटोकॉल्स और सुरक्षा से सम्बंधित मैनुअल्स की पूरी पालना करे, इससे विद्युत सम्बंधी दुर्घटनाओं में कमी लाई जा सकती है। बैठक में विद्युत प्रसारण निगम के सीएमडी श्री दिनेश कुमार, विद्युत उत्पादन निगम के सीएमडी श्री पी. रमेश के अलावा जयपुर डिस्कॉम के एमडी श्री एके गुप्ता, अजमेर डिस्कॉम के एमडी श्री वीएस भाटी तथा जोधपुर डिस्कॉम के एमडी श्री अविनाश सिंघवी के अलावा अन्य सम्बंधित अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Comment