Hathras Kand News Live Updates: बाबरी केस के फैसले के कारण कल रात हुआ अंतिम संस्कार, सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार का हलफनामा

Last Updated on October 6, 2020 by Shiv Nath Hari

Hathras Kand News Live Updates: बाबरी केस के फैसले के कारण कल रात हुआ अंतिम संस्कार, सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार का हलफनामा

Hathras Kand News Live Updates: UP government's affidavit in Supreme Court due to the decision of Babri case last night

Hathras Kand News Live Updates नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश सरकार ने हाथरस में कथित सामूहिक बलात्कार के मामले में उच्चतम न्यायालय में एक हलफनामा दायर किया है। इसने उत्तर प्रदेश सरकार पर विपक्ष के खिलाफ सांप्रदायिक दंगे फैलाने की कोशिश करने का आरोप लगाया।

महत्वपूर्ण बात यह है कि यूपी सरकार ने अपने हलफनामे में यह भी कहा कि परिवार की अनुमति के बाद और हिंसा से बचने के लिए आधी रात को पीड़िता का अंतिम संस्कार किया गया।

अयोध्या-बाबरी मामले को लेकर जिलों को हाई अलर्ट जारी किया गया था। यूपी सरकार ने अपने हलफनामे में यह भी उल्लेख किया है कि यह कोरोना के कारण भीड़ को अनुमति नहीं देगा। यूपी सरकार ने कहा है कि अयोध्या-बाबरी मामले में फैसले की संवेदनशीलता को देखते हुए पीड़ित परिवार की अनुमति से रात में अंतिम संस्कार किया गया था।

नियोजित दंगा प्रयास –

पुलिस को 14 सितंबर को सूचना मिली। इसके बाद, पुलिस ने मामला दर्ज किया और तत्काल कदम उठाए। इतना ही नहीं, यूपी सरकार ने अपने हलफनामे में कहा है कि राजनीतिक दलों, सोशल मीडिया, प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के कुछ वर्गों ने मामले को सांप्रदायिक और सांप्रदायिक दंगों के लिए इस्तेमाल करने के लिए योजनाबद्ध प्रयास किए हैं।

हमले की सीबीआई जांच

यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से हाथरस में एक लड़की पर कथित बलात्कार और हमले की जांच करने के लिए भी कहा है। केवल इतना ही नहीं, बल्कि हम इस मामले की निष्पक्ष जांच भी कर सकते हैं। हालांकि, यूपी सरकार ने कहा है कि निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने के लिए कुछ प्रयास किए जा रहे हैं।

सुबह हिंसा का इनपुट –

यूपी सरकार ने अपने हलफनामे में आधी रात को अंतिम संस्कार क्यों किया? इसका कारण भी बताया गया है। उनके अनुसार, खुफिया एजेंसियों के पास भी इनपुट था कि संबंधित लड़की के मुद्दे पर बड़े पैमाने पर हिंसा की तैयारी की जा रही थी। अगर हम सुबह तक इंतजार करते तो स्थिति हाथ से निकल जाती। इस कारण संबंधित लड़की के परिवार की अनुमति से रात में लड़की का अंतिम संस्कार किया गया।