किसानों के साथ संवाद कर दूर करें अमृतसर-जामनगर एक्सप्रेस-वे की बाधाएं-मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

Last Updated on March 6, 2020 by Shiv Nath Hari

किसानों के साथ संवाद कर दूर करें अमृतसर-जामनगर एक्सप्रेस-वे की बाधाएं-मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

Elimination of Amritsar-Jamnagar Expressway by communicating with farmers - Chief Minister Ashok Gehlot
Elimination of Amritsar-Jamnagar Expressway by communicating with farmers – Chief Minister Ashok Gehlot

जयपुर, 6 मार्च। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत अमृतसर से जामनगर तथा दिल्ली से बड़ोदरा के बीच बन रहे एक्सप्रेस-वे के कार्य को गति देने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इसके लिए जमीन अवाप्ति सहित अन्य अड़चनों का संवेदनशीलता के साथ उचित हल निकाला जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि अमृतसर से जामनगर एक्सप्रेस-वे को लेकर जालोर में आ रही बाधाओं को दूर करने के लिए संभागीय आयुक्त किसानों से सौहार्दपूर्ण वातावरण में संवाद करें।


श्री गहलोत शुक्रवार को भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत इन दोनों परियोजनाओं के काम की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय महत्व के ये दोनों प्रोजेक्ट प्रदेश के विकास की दृष्टि से भी अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। अमृतसर से जामनगर के बीच 1100 किलोमीटर के इस एक्सप्रेस वे का करीब 636 किलोमीटर हिस्सा राजस्थान से गुजरेगा। इसी तरह दिल्ली-बडोदरा एक्सप्रेस-वे का भी करीब 373 किलोमीटर का हिस्सा राज्य से गुजरेगा।ऎसे में ये दोनों प्रोजेक्ट प्रदेश के लिए अहम हैं। 


मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण एवं सार्वजनिक निर्माण विभाग के साथ मिलकर अभियान चलाकर महत्वपूर्ण परियोजनाओं में भूमि अवाप्ति एवं मुआवजे को लेकर आ रही समस्याओं को दूर करें। श्री गहलोत ने बर से जोधपुर के बीच निर्माणधीन नेशनल हाईवे के काम की भी समीक्षा की। उन्होंने इसका काम जल्द पूरा करने के निर्देश दिए।


बैठक में मुख्य सचिव श्री डीबी गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव पीडब्ल्यूडी श्रीमती वीनू गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त श्री निरंजन आर्य, प्रमुख शासन सचिव राजस्व श्री संदीप वर्मा, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के मुख्य महाप्रबंधक श्री एमके जैन सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 

Leave a Comment