जिला कलक्टर ने ग्राम पंचायत सैंत में जनसुनवाई कर मौके पर ही परिवादों के निस्तारण के निर्देश दिये

Last Updated on October 27, 2020 by Shiv Nath Hari


जिला कलक्टर ने ग्राम पंचायत सैंत में जनसुनवाई कर मौके पर ही परिवादों के निस्तारण के निर्देश दिये

District collector instructed for disposal of complaints on the spot after conducting public hearing in village panchayat.
District collector instructed for disposal of complaints on the spot after conducting public hearing in village panchayat.

भरतपुर, 27 अक्टूबर। जिला कलक्टर ने मंगलवार को पंचायत समिति कुम्हेर की ग्राम पंचायत सैंत मुख्यालय पर जनसुनवाई की।

उन्होंनें कहा कि राज्य सरकार की मंशा है कि गरीब, बेसहारा, पीडितों की समस्याओं का निस्तारण प्राथमिक स्तर पर हो जिससे उन्हें धन एवं समय बर्बाद न करना पडे़। उन्होंने उपखण्ड स्तरीय अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे प्रतिदिन कार्य दिवस में जनसुनवाई के लिए समय निर्धारित करें जिससे परिवादी अपनी समस्या लेकर समाधान के लिए इधर-उधर न भटकें तथा उनकी समस्याओं का प्राथमिक स्तर पर त्वरित समाधान करें। उन्होंने उपखण्ड अधिकारी को निर्देश दिये कि वे नियमित जनसुनवाई कर आमजन की समस्याओं का त्वरित निस्तारण करें ताकि लोगों को बिजली, पानी, पेंशन, अतिक्रमण हटवाने जैसे छोटे-छोटे कार्याें के लिए जिला मुख्यालय के चक्कर नहीं लगाने पडें।

जनसुनवाई में मुख्य रूप से अतिक्रमण, सड़क, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा एवं बीपीएल सूची में नाम जुडवाने, बिजली की समस्या, पेंशन सहित अन्य व्यक्तिगत एवं सामुदायिक समस्याओं के प्रतिवेदन प्राप्त हुए। जिनका विभागीय अधिकारियों को मौके पर निस्तारण करने के निर्देश दिये।

इसके पश्चात सैंत के आंगनबाड़ी केंद्र का निरीक्षण कर गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण कार्यक्रम के बारे में आवश्यक दिशा-निर्देश दिये तथा क्षेत्र के कुपोषित बच्चों की सूची तैयार कर उपचार के लिए भिजवाने तथा बच्चों को पूर्व प्रारम्भिक शिक्षा की व्यवस्था सुनिश्चित किये जाने के निर्देश दिये।
सीएचसी कुम्हेर का किया निरीक्षण

जिला कलक्टर नथमल डिडेल ने मंगलवार को पंचायत समिति कुम्हेर के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का निरीक्षण कर अस्पताल में भर्ती मरीजों के इलाज एवं उन्हें उपलब्ध कराई जा रही सुविधाओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने चिकित्सकों को निर्देश दिये कि कोरोना महामारी के कारण मौसमी एवं अन्य बीमारियों के मरीजों के इलाज में किसी प्रकार की कोई कोताही नहीं होनी चाहिए।

उन्होंने ओपीडी में आने वाले मरीजों की संख्या के बारे में जानकारी ली तथा डीडीसी में दवाओं की उपलब्धता एवं उनके वितरण की जांच भी की। उन्होंने केन्द्र पर की जाने वाली जांचों एवं टीकाकरण के संबंध में चिकित्साकर्मियों से जानकारी ली तथा परिसर की साफ-सफाई एवं कचरा निस्तारण के सम्बन्ध में की जा रही व्यवस्थाओं का भी निरीक्षण किया।

इसके पश्चात जिला कलक्टर ने अधिकारियों के साथ हवाई पट्टी पला एवं मोक्ष धाम का निरीक्षण किया।
—————