भुसावर पुलिस ने किया अन्र्तराज्यीय खुर्द-बुर्द ग्रिरोह का खुलासा,फाईनेंस कम्पनियों के साथ आठ करोड की धोखाधडी का प्रयास

Last Updated on August 27, 2020 by Shiv Nath Hari

भुसावर पुलिस ने किया अन्र्तराज्यीय खुर्द-बुर्द ग्रिरोह का खुलासा,फाईनेंस कम्पनियों के साथ आठ करोड की धोखाधडी का प्रयास

  • भुसावर पुलिस ने किया अन्र्तराज्यीय खुर्द-बुर्द ग्रिरोह का खुलासा
  • -फाईनेंस कम्पनियों के साथ आठ करोड की धोखाधडी का प्रयास
  • -डी.जी भूपेन्द्रसिंह के हाथ कमान
  • -थाना प्रभारी राजेश खटाना ने किया खुलासा
  • -दलवीर गुर्जर व हुकुम गुर्जर गिरफ्तार
  • -पुलिस के हत्थे चढा अन्र्तराज्यीय ग्रिरोह
  • -भुसावर-नगर पुलिस की संयुक्त कार्यवाही
Bhusawar police exposes inter-state gheroos, attempts to cheat eight crores with finance companies


हलैना,-भुसावर थाना प्रभारी राजेश खटाना ने वाहक क्रय-विक्रय कर फाईनेंस कम्पनियों के साथ धोखाधडी करने वाले अन्र्तराज्यीय ग्रिरोह का खुलासा किया,जिस ग्रिरोह के मुखियां सहित दो जनों को गिरफ्तार किया है। थाना प्रभारी राजेश खटाना ने बताया कि राजस्थान के पुलिस महानिदेशक भूपेन्द्रसिंह,भरतपुर संभाग के आईजी संजीव नारजरी,एसपी अमनदीप कपूर,एएसएपी सुरेशचन्द खींची,भुसावर सीओ निहालसिंह ने भरतपुर रनेज में अपराध रोकथाम एवं अपराधियों की पकड को जिला व थाना स्तर पर टीम गठित की,भुसावर थाना क्षेत्र में लम्बे समय से वाहन क्रय-विक्रय कर फाईनेंस कम्पनियों के साथ धोखाधडी करने वाला ग्रिरोह सक्रिय था,जो ग्रिरोह अन्र्तराज्यीय स्तर पर धोखाधडी करता और भोले-वाले ग्रामीण,किसान आदि को फंसा कर पैसा ऐठंते थे। उन्होने बताया कि भुसावर थाना सहित अन्य थाना पर उक्त प्रकरण के मामला दर्ज है। जिसकी गहराई से जांच करने पर ग्रिरोह के मुखिया सहित अन्य सदस्य के नाम उजागर हुए। उन्होने बताया कि 26 अगस्त को भुसावर एवं नगर थाना पुलिस ने नगर थाना के गांव पैण्डका में दविश दी,जहां के जंगल में ग्रिरोह के छुपा होने की सूचना मिली,पुलिस को देख दो जने भाग कर बाजरा फसल में छुप गए,पुलिस ने पीछा कर दोनो को दबोचा और पूछताछ में उक्त ग्रिरोह का मुखिया एवं अन्य सदस्य निकले,गांव पैण्डका निवासी दलवीरसिंह गुर्जर व हुकुमसिंह पुत्रान गोविन्दसिंह गुर्जर को उक्त प्रकरण के आरोप में गिरफ्तार किया। थाना प्रभारी खटाना ने बताया कि ये ग्रिरोह वर्ष 2010-2011 से सक्रिय है,उक्त ग्रिरोह का जाल भरतपुर-जयपुर रनेज सहित आधा दर्जन राज्यों फैला हुआ है। जिस ग्रिरोह ने फाईनेंस कम्पनियों के साथ धोखाधडी की है। उक्त ग्रिरोह ने 2010 से आज तक 40 ट्रेक्टर, 10-11 जेसीबी,20 बोलोरो गाडी सहित अन्य वाहनों कम भुगतान पर खरीद कर बेचान करने का आरोप स्वीकारा है।
-ग्रिरोह के सदस्य
थाना प्रभारी राजेश खटाना ने बताया कि ग्रिरोह का मुखिया नगर थाना के गांव पैण्डका निवासी दलवीरसिंह पुत्र गोविन्दसिंह गुर्जर तथा उसका भाई हुकमसिंह गुर्जर सह-मुखियां था,नगर थाना के गांव बरखेडा निवासी भरतलाल उर्फ भरती जाट पुत्र रघुनाथ जाट ,गांव सिरथला निवासी हसंराम उर्फ हसां पुत्र दाताराम गुर्जर ,मथुरा जिला के बरसाना थाना के गांव लोहरवाडी लक्ष्मण उर्फ पटवारी गुर्जर पुत्र प्रहलाद गुर्जर ग्रिरोह के सदस्य है।
-धन का प्रभोलन
थाना प्रभारी राजेश खटाना उक्त ग्रिरोह मुखियां दलवीरसिंह व उसका भाई शातिर अपराधी है और ग्रिरोह बना कर फाईनेंस कम्पनियों के साथ धोखाधडी कर पैसा कमाना मुख्य उददेश्य था। ग्रिरोह का अपराध करने का तरीका विचित्र है,जो ग्रामीण अंचल के भोले-वाले व्यक्ति एवं किसान को धन कमाने का प्रभोलन देते और फाईनेंस कम्पनियों से कर्ज पर वाहन उपलब्ध करा वाहन को खुर्द-बुर्द देते थे। ऐसे वाहनों को राजस्थान के विभिन्न जिला सहित देश के आधा दर्जन प्रान्त में कम पैसा पर बेचान कर देते थे। ग्रिरोह अदालती इस्तागासा के माध्यम से भुसावर थाना सहित विभिन्न थाना में वाहन चोरी का असत्य प्रकरण दर्ज करा कर फाईनेंस कम्पनियां का चपत लगाना था।
-डीजी भूपेन्द्रसिंह की टीम
भरतपुर-जयपुर रेन्ज में अपराध की रोकथाम एवं अपराधी की पकड को स्पेशल अभियान चला कर भरतपुर रेन्ज में स्पेशल टीम गठित की,जिस टीम में भरतपुर रेन्ज के आईजी संदीप संजीव नारजरी,एसपी अमनदीप कपूर,एएसएपी सुरेशचन्द खींची,भुसावर सीओ निहालसिंह,भुसावर थाना प्रभारी राजेश खटाना,नगर थाना प्रभारी हरीनारायण मीणा,डीएसटी टीम के उप निरीक्षक हेमराज मीणा,टैक्नीकल टीम के उप निरीक्षक अमरेश गुर्जर,आसूचना संकलन टीम के उप निरीक्षक सागर मीणा,क्यूआरटी टीम के एचसी रामवीर चैधरी आदि शामिल थे।
—–हलैना से विष्णु मित्तल