व्यक्ति को सच्चा सुख केवल भगवान की आराधना से मिलता है – पाराशर

Advertisement
Advertisement
Advertisement

Last Updated on March 3, 2020 by Shiv Nath Hari

Deeg news व्यक्ति को सच्चा सुख केवल भगवान की आराधना से मिलता है - पाराशर
व्यक्ति को सच्चा सुख केवल भगवान की आराधना से मिलता है – पाराशर

डीग -३ मार्च व्यक्ति को सच्चा सुख केवल भगवान के चरणों की अराधना करने से मिलता है,ये ज्ञान कपिल देव ऋषि ने अपनी माँ को दिया ज्ञान की कमी के कारण कपिल देव ऋषि का अवतार हुआ है।काम का सुख क्षणिक सुख है,राम का सुख खुजली की तरह है।जितना खुजाओंगें उतनी खुजली बढ़ेगी।इसलिए भगवान के चरणों का ध्यान करने से ही जीव का कल्याण हो जाता है यह वाक्य कस्वें के ऐतिहासिक लक्ष्मण मंदिर पर बाबा शिवराम दास के सानिध्य में चल रही श्री मद भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के तीसरें दिन व्यासपीठ पर विराजमान भागवताचार्य पड़ित मुरारी लाल पाराशर ने कहे।

कथा वाचक पाराशर ने कहा कि कपिल देव जी ने अपनी माँ को साँख्य योग आदि का ज्ञान दिया।मुख से केबल भगवान के नाम के ही गुणानुवाद करने चाहिए।इसके लिए अपनी इंद्रियों को अपने वश में रखकर जिससे ज्ञान की वृद्रि हो ।भगवान अपने भक्तों की तपस्या पर प्रसन्न होते है।ब्रम्हा,भी तप के कारण सृष्टि का निर्माण करते है।विष्णु तप के कारण ही इसका पालन करते है।और शंकर ही तप के द्वारा संहार करते है।इस आवसर पर दिनेष सराफ,वैध नन्दकिशोर गँधी,मुकुट नसवारिया, विष्णु मित्तल,दीपचंद फौजदार,कैदार सौखियाँ, रमेश यादव,सुनीता,लक्ष्मी,बृजलता,उर्मीला,आदि महिला पुरुष उपस्थिति थे।
डीग से पदम जैन की रिपोर्ट

Advertisement
Advertisement

Leave a Comment