भरतपुर मेडिकल काॅलेज में शीघ्र मिलेंगी गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा सेवा: डाॅ. गर्ग

Last Updated on September 6, 2020 by Shiv Nath Hari

भरतपुर, 06 सितम्बर। चिकित्सा राज्य मंत्री डाॅ. सुभाष गर्ग ने कहा कि क्षेत्रवासियों को बेहतर एवं गुणवत्तापूर्ण चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराये जाने के प्रयास किये जा रहे हैं जिसके तहत आरबीएम चिकित्सालय में विशेष चिकित्सकीय सेवाएंे प्रारम्भ की गयीं हैं।
डाॅ. गर्ग रविवार को राजकीय मेडिकल काॅलेज के सभागार में प्रशासनिक एवं चिकित्सा अधिकारियों की संयुक्त बैठक की अध्यक्षता करते हुए निर्देशित कर रहे थे। उन्होंने मेडिकल काॅलेज के प्राचार्य एवं नियंत्रक को निर्देश दिये कि रोगियों के बेहतर उपचार के लिए संविदा सेवा पर कार्मिक रखे जाने के लिए प्रस्ताव बनाकर भिजवायें जिससे स्वीकृति जारी करायी जा सके। उन्होंने चिकित्सा अधीक्षक को निर्देश दिये कि वे कार्मिकों की आवश्यकतानुसार वार्ड एवं फ्लोरवार ड्यूटी लगायें जिससे संबंधित कार्मिक की जिम्मेदारी तय हो सके। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की यह मंशा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से होने वाली मृत्यु दर को कम से कम स्तर पर लायी जा सके।


चिकित्सा संस्थानों पर होंगी हेल्प डेस्क स्थापित


चिकित्सा राज्य मंत्री डाॅ. गर्ग ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा सभी चिकित्सा संस्थानों पर रोगी हेल्पडेस्क स्थापित किये जायेंगे जिससे रोगियों को इधर-उधर उपचार के लिए भटकना नहीं पडे। इस हेल्पडेस्क में चिकित्सा सहायक के साथ ही दो आॅक्सीजन गैस के सिलेण्डर एवं दो स्ट्रेचर रखी जायेंगी जिसमें मरीज के पहुंचते ही उसको तत्काल ये सुविधाएं उपलब्ध करायी जा सकें। उन्होंने आरबीएम चिकित्सालय परिसर में सामान्य रोगियों के लिए बनाये गये आईसीयू में 10 और नये वेंटिलेटर लगाने तथा कोविड आईसीयू में 5 वेंटिलेटर लगाने के निर्देश दिये। उन्होंने मेडिकल काॅलेज के प्राचार्य को निर्देश दिये कि वे आरबीएम चिकित्सालय में सीटीस्केन की सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए पीपीपी मोड पर तत्काल प्रस्ताव तैयार कर भिजवायें। उन्होंने आमजन से अपील की है कि वे अनलाॅक की अवधि में भी कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लाॅकडाउन में किये गये प्रयासों को जारी रखते हुए चिकित्सकीय गाईडलाइन की पालना सुनिश्चित करें।


मेडिकल काॅलेज के प्रचार्य डाॅ. रजत श्रीवास्तव ने काॅलेज में विद्युत व्यवस्थाओं में सुधार के लिए बीईएसएल से विद्युत हाॅटलाइन डलवाने की मांग चिकित्सा राज्य मंत्री ने बीईएसएल के क्षेत्रीय प्रबंधक जयंत चैधरी से दूरभाष पर वार्ता की जिस पर जयंत चैधरी द्वारा नगर विकास न्यास द्वारा एसपीजेड क्षेत्र में भूमि उपलब्ध करवाने पर 132 जीएसएस सब स्टेशन स्थापित कराकर मेडिकल काॅलेज सहित सेवर परिक्षेत्र की वि़द्युत समस्याओं के समाधान की बात कहने पर चिकित्सा राज्य मंत्री ने अतिरिक्त जिला कलक्टर शहर एवं नगर विकास न्यास के सचिव को भूमि उपलब्ध करवाने के निर्देश दिये। उन्होंने बताया कि चिकित्सा संस्थानों में कार्मिकों के ठहराव के लिए बायोमैट्रिक मशीन के माध्यम से उपस्थिति लिये जाने के लिए मशीनें स्थापित करा दी गयीं है। उन्होंने बताया कि चिकित्सा राज्य मंत्री के विशेष प्रयासों से जिले में जीवन रक्षक कैप्सूल रेडिसिविर रेमिडीज उपलब्ध होने से रोगियों को जयपुर या आगरा रैफर करने से निजात मिलेगी।


डाॅ. गर्ग ने प्राचार्य को निर्देश दिये कि वे संस्था द्वारा उपलब्ध करवाये गये संविदा कार्मिकों की प्रतिमाह की जा रही पीएफ राशि कटौतियों पर निगरानी रखें। उन्होंने चम्बल पेयजल परियोजना एवं जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे आपसी समन्वय बनाये रखते हुए संचालित पेयजल पाइपलाइन तंत्र का उपयोग चम्बल पेयजल सप्लाई के लिए अमल में लायें।


बैठक में चिकित्सा अधीक्षक नवदीप सैनी ने बताया कि चिकित्सा राज्य मंत्री के विशेष प्रयासों द्वारा आरबीएम चिकित्सालय में लैप्रोस्कोपिक विधि से आॅपरेशन की नवीन पहल इसी माह से आरम्भ की जायेगी जिससे रोगियों के बडे़ आॅपरेशन भी बिना चीडफाड के किया जाना सम्भव होगा। उन्होंने कहा कि चिकित्सालय में संविदा कार्मिकों की उपलब्धता बढने के साथ ही रोगियों को बेहतर सुविधाएंे उपलब्ध होंगी जिससे लोगों का चिकित्सालय के प्रति नजरिये में बदलाव आयेगा।